सम्पादकीय मुख्य समाचार खेल समाचार क्षेत्रीय  समाज विज्ञापन दें अख़बार  डाऊनलोड करें
ऑनलाइन पढ़ें व्यापार  अंतरराष्ट्रीय  राजनीति कही-सुनी ब्यंग राशिफल
लाइफस्टाइल शिक्षा खाना - खजाना हिंदुस्तान की सैर फ़िल्मी रंग बताते आपका स्वभाव
| DAINIK INDIA DARPAN LIVE NEWS |MOTHER INDIA MONTHLY HINDI MAGAZINE | GIL ONLINE LIVE NEWS | DID TV POLITICAL, CRIME ,SOCIAL, ENTERTAINMENT VIDEOS| ... 
  • दिनांक
  • महिना
  • वर्ष

गूगल ने पूरे किये 15 वर्ष

एक गैराज से शुरू होकर इस समय भारत सहित 40 वैश्विक स्थानों पर 70 कार्यालयों वाली इंटरनेट सर्च इंजन कंपनी, गूगल के बुधवार को 15 वर्ष पूरे हो गए। 
इस कंपनी के संस्थापक द्वय लारी पेज और सर्गे ब्रेन की मुलाकात विश्वविद्यालय में 1995 में हुई थी। बाद में दोनों ने मिलकर चार सितंबर, 1998 को इसकी शुरुआत की। शुरू में कंपनी का नाम बैकरब था लेकिन बाद में गूगल हो गया। 

इसके बाद यह इंटरनेट में सर्च का पर्यायवाची शब्द हो गया। कोई भी जी मेल को 50 भाषाओं में उपयोग कर सकता है। गूगल ने कंपनी के अगले मोबाइल आपरेटिंग सिस्टम का नाम एंड्रायड किटकैट रखा है।

प्रिंयका ने कहा अमिताभ से मेरा दिल का कनेक्शन!

प्रियंका चोपड़ा की फिल्म जंजीर 6 सितंबर को रिलीज होने वाली है फिल्म को लेकर प्रिंयका चोपडा़ काफी उत्साहित हैं। प्रिंयका का कहना है कि अमिताभ बच्चन उनके फेवरेट एक्टर हैं और वो उनकी हर फिल्म के रीमेक में काम करना चाहती हैं। प्रिंयका चोपड़ा ने कहा कि जब जंजीर फिल्म का रीमेक का ऑफर उन्हें आया तो वो काफी एक्साइटेड हो गयीं क्योंकि अमिताभ उनके फेवरेट एक्टर हैं और वो चाहती हैं कि उनकी हर एक फिल्म की रीमेक में काम करें। प्रिंयका ने कहा कि अब वो जंजीर में विजय का किरदार तो निभा नहीं सकती थीं इसलिए विजय के बाद माला का किरदार ही ऐसा था जो फिल्म की जान था तो मैंने माला का किरदार प्ले किया। प्रिंयका ने अपने इंटरव्यू के दौरान कहा असल में अमिताभ बच्चन और मेरा दिल का कनेक्शन है आप लोग इसे नहीं समझेंगे। बिग बी मेरे पसंदीदा एक्टर हैं और मुझे इस बात की खुशी है कि उनकी जो भी रीमेक फिल्में बनती हैं उनमें मैं जरुर होती हूं। जंजीर फिल्म मुझे बहुत पंसद है और उसमें अमिताभ जी का विजय का किरदार भी बेहतरीन है। अब विजय तो मैं बन नहीं सकती तो उसके बाद यही एक किरादर था जो मैं कर सकती थी। प्रिंयका चोपड़ा इससे पहले अमिताभ बच्चन की हिट फिल्मों डॉन और अग्निपथ में भी काम कर चुकी हैं। साथ ही बबली बदमाश में भी उन्होंने अमिताभ की ड्रेस कॉपी की थी। प्रिंयका ने जंजीर फिल्म में अपने किरदार के बारे में बताते हुए कहा मैं इस फिल्म में जो किरदार निभा रही हूं वो किरदार अमिताभ बच्चन की जंजीर फिल्म में जया बच्चन जी ने निभाया था। लेकिन इस फिल्म में मेरा किरदार किसी भी तरह से माला से मिलता जुलता नहीं है। मैं इसमें चक्कू छूरी वाली नहीं हूं मैं एक न्यूयॉर्क से आई हुई एक गुजराती लड़की का किरदार निभा रही हूं जो इंडिया में एक शादी अटैंड करने आती है और एक मर्डर देख लेती है। उस मर्डर की वजह से ही कुछ ऐसी परिस्थितियां बनती है कि विजय उसकी जिंदगी में आता है और कहानी शुरु होती है।

अमिताभ और यूनिसेफ ने मिलाए हाथ

यूनिसेफ के सद्भावना राजदूत अमिताभ बच्चन ने द वर्ल्ड नीड्स मोर  नाम के ग्लोबल मुहिम के प्रचार के लिए संयुक्त राष्ट्र से हाथ मिलाया है. इस मुहिम का मकसद लोगों को मानवीय समस्याओं से प्रभावित समुदायों के लिए वादों का वास्तविक मदद में बदलने के लिए उत्साहित करना है। 
दरअसल सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने कल एक वीडियो साक्षात्कार जारी किया, जिसमें पोलिया को खत्म करने के अपने निजी अभियान का जिक्र किया है. बच्चन ने कहा कि हर बच्चे को जीवित रहना और विकास का पूरा हक है। 

संयुक्त राष्ट्र ने भी बयान जारी कर कहा है कि बच्चन इस मुहिम का समर्थन करने वाली अंतर्राष्ट्रीय हस्तियों में शामिल हो गए हैं. बेयोंस, किड प्रेसीडेंट, जेनिफेर लोपेज, सुसान सारनदोन, एलएल कूल जे, गीना डेविस, ट्रे सोंग्ज़ और क्रिस्टीना एप्पलगेट भी इसी मुहिम से जुड़े हुए हैं। 
राजेश खन्ना के नाम पर हो सड़क का नामः डिम्पल कपाड़िया बॉलीवुड के काका राजेश खन्ना की पत्नी एवं अभिनेत्री डिम्पल कपाड़िया ने अपनी इच्छा जताई कि शहर में एक सड़क का नामकरण सुपरस्टार के नाम पर हो. अपने समय के सुपरस्टार रहे राजेश खन्ना का 2012 में गंभीर रूप से बीमार होने के बाद 18 जुलाई को निधन हो गया था. डिम्पल ने एक कार्यक्रम में संवाददाताओं से कहा, काकाजी को ना केवल एक अभिनेता बल्कि कांग्रेस नेता के रूप में भी याद किया जाता है. हम राजीव शुक्ला (सांसद) से अनुरोध करेंगे कि कार्टर रोड का नाम राजेश खन्ना के नाम पर किया जाए. यह एक अनुरोध है. इस पर शुक्ला ने कहा, फिल्म जगत और एक सांसद के रूप में उनका काफी योगदान है. उनके प्रशंसकों की संख्या बहुत अधिक थी. मैं इस संबंध में शहरी विकास मंत्रालय से अनुरोध करूंगा. उम्मीद करते हैं कि सड़क का नामकरण काकाजी के नाम पर किया जाए. उन्होंने कहा,मुझे मुख्यमंत्री (पृथ्वीराज चव्हाण) से यह पता करना होगा कहीं कार्टर रोड का नामकरण नौशादजी (संगीतकार नौशाद अली) के नाम पर तो नहीं किया गया है. यहां पर खन्ना की प्रतिमा के अनावरण के मौके पर डिम्पल के अलावा, उनकी पुत्री और दामाद अक्षय कुमार एवं बॉलीवुड की कई जानीमानी हस्तियां मौजूद थीं. राजेश खन्ना भारतीय सिनेमा के पहले सुपरस्टार थे और उन्होंने 15 लगातार एकल हिट फिल्में दी थीं. इस रिकार्ड को अभी भी कोई तोड़ नहीं पाया है. सुपस्टार राजेश खन्ना की कांस्य प्रतिमा का अनावरण रविवार को मुम्बई स्थित बांद्रा बैंडस्टैंड पर किया गया. इस मौके पर बॉलीवुड की कई जानीमानी हस्तियां मौजूद थीं. सुपरस्टार के सम्मान और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए मनोरंजन चैनल यूटीवी स्टार्स ने बांद्रा बैंडस्टैंड स्थित वाक आफ द स्टार्स पर खन्ना की प्रतिमा लगायी है. इस प्रतिमा में खन्ना अपने दाहिने हाथ में दो गुब्बारे लिये हुए दिखते हैं. खन्ना की यह मुद्रा उनकी फिल्म आनंद से ली गई है. दिवंगत अभिनेता की पत्नी डिम्पल कपाड़िया, उनकी पुत्री ट्विंकल, दामाद अक्षय कुमार के साथ ही फिल्म उद्योग के मित्र ऋषि कपूर, जितेंद्र, हेमा मालिनी, रंधीर कपूर, राकेश रोशन, आशा पारेख, जीनत अमान, मिथुन चक्रवर्ती, अंजू महेंद्रू, अपनी पत्नी अधुना और मां हनी इरानी के साथ फरहान अख्तर, अमर सिंह, राजीव शुक्ला और अन्य मौजूद थे. इस अवसर पर डिम्पल ने कहा, काकाजी ऊर्जावान थे और वह अपनी शर्तों पर जीये और मरे. सिनेमा को उनका योगदान अतुल्य है. वह पहले सुपरस्टार थे. उनका साहस, बहादुरी और निर्भीकता उनके निधन के समय भी मौजूद थी. वह असली जीवन में भी आनंद थे और वह आनंद के तरह से जीये. डिम्पल ने कहा, उनके साथ मेरा सफर रोमांचक रोलर कोस्टर की सवारी जैसा था. मुझे इस बात का गर्व है कि मैं उनके जीवन का हिस्सा बनी और उनके दो बच्चों की मां बनी. हमें इस प्रतिमा को लेकर गर्व है. उन्होंने खन्ना के आखिरी विज्ञापन की एक पंक्ति भी पढ़ी जिसमें वह कहते हैं, बाबू मोशाय मेरे फैंस को मुझसे कोई नहीं छीन सकता. खन्ना की पुत्री ट्विंकल ने कहा, वह मेरे दिल में हैं और वह हमेशा ही वहां रहेंगे. यह हमारे लिए बहुत ही भावुक पल है लेकिन एक परिवार के रूप में हम इस पहल को लेकर बहुत प्रसन्न हैं. इस मौके पर अक्षय ने अपने 10 वर्षीय पुत्र आरव द्वारा लिखा एक संदेश पढ़ा. मैं यहां आने के लिए आप सभी का धन्यवाद करता हूं. मुझे याद है कि उनके निधन से 10 दिन पहले वह बिस्तर में थे और उन्हें मेरे अलावा कोई भी याद नहीं था. उन्होंने मुझे चूमा था. मुझे नहीं पता कि उन्हें क्या हो गया. वह एक महान व्यक्ति थे और वह हमेशा ही मेरे साथ रहेंगे. यह प्रतिमा बॉलीवुड की अन्य प्रमुख हस्तियों जैसे यश चोपड़ा, राज कपूर, शम्मी कपूर और देव आनंद की बगल में लगायी जाएगी. इसका उल्लेख करते हुए अक्षय ने कहा कि परिवार के लिए यह गर्व का पल है कि यह प्रतिमा अन्य बड़ी हस्तियों के साथ लगेगी. अभिनेत्री हेमा मालिनी ने कहा, प्रतिमा स्थापना की यह पहल अच्छी बात है. उनका बहुत योगदान था. वह एक अच्छे मित्र थे.

दिसंबर से भारतीय लोगों के निजी जीवन पर होगा हमला, सरकार ने पूरी की तैयारी

आने वाले दि‍नों में आपकी कोई भी बात छुपी नहीं रहने वाली। फोन आप लैंडलाइन से करेंगे, या फि‍र मोबाइल से, वो सुना जाएगा और जरूरत समझी गई तो रि‍कॉर्ड भी कि‍या जाएगा। इंटरनेट पर भी आपकी कोई बात छुपी नहीं रह सकेगी। यह हकीकत है और इसी वर्ष दि‍संबर में सरकार ऐसा करने जा रही है।
इस सि‍स्‍टम को सीएमएस (कम्‍युनि‍केशन मॉनीटरिंग सि‍स्‍टम) का नाम दि‍या गया है जो वॉयस कॉल, फैक्‍स मैसेज, एसएमएस, एमएमएस सहि‍त फोन नेटवर्क से संबंधि‍त हर चीज पर नजर रखेगा। इस सि‍स्‍टम से इंटरनेट पर आपके द्वारा की जा रही हर गति‍वि‍धि रि‍कॉर्ड होगी। सीएमएस इतना सेंसटि‍व है कि आपके कंप्‍यूटर पर इंटरनेट ब्राउजिंग से बनने वाला कैच भी रि‍कॉर्ड कर सकेगा। सीएमएस की शुरुआत दो साल पहले ही हो गई थी।
29 अप्रैल 2011 को गृह मंत्रालय ने इसके बारे में सभी प्रदेशों की राजधानी में टेंडर नि‍काला था। टेंडर में साफ कहा गया था कि सरकार को ऐसा सि‍स्‍टम चाहि‍ए, जि‍ससे कि वॉयस कॉल, फैक्‍स मैसेज, एसएमएस, एमएमएस सहि‍त फोन नेटवर्क से संबंधि‍त हर चीज पर नि‍गाह रखी जा सके।

इसके अलावा यह सि‍स्‍टम इंटरनेट की भी पूरी नि‍गरानी कर सके। टेंडर में कहा गया कि सि‍स्‍टम हर चीज रि‍कॉर्ड करके सेव कर सके और उसे दोबारा सुना या देखा भी जा सके। सीएमएस बन चुका है और इसी महीने की दस तारीख को इसकी टेस्‍टिंग भी होनी है। अगर यह सही से काम करता पाया गया तो इसे दि‍संबर तक शुरू कर दि‍या जाएगा।

शादी से मेरे काम पर फर्क नहीं पड़ा: विद्या

बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन कहती हैं कि शादी करके वह बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा कि शादी से उनके काम में कोई फर्क नहीं पड़ा, पहले की तरह वह अपने पसंद की फिल्में और भूमिकाएं कर सकती हैं।
फिल्म परिणीता से अपना फिल्मी करियर शुरू करने वाली विद्या के लिए निजी जिंदगी और अपने काम के बीच सामंजस्य बिठाना मुश्किल नहीं हैं, क्योंकि उनको अपने पति का पूरा सहयोग मिलता है। विद्या ने पिछले साल दिसम्बर में डिजनी यूटीवी के महाप्रबंधक सिद्धार्थ रॉय कपूर से विवाह किया है।
विद्या ने एक साक्षात्कार में बताया- मैं शादी करके खुश हूं। सबसे अच्छी बात यह है कि दिन भर काम के लिए बाहर रहने के बाद आखिरकार शाम को आप घर पर साथ होते हैं। उन्होंने सिद्धार्थ की तारीफ करते हुए कहा- वह बहुत सहयोगी स्वभाव के हैं। उनके साथ रिश्ते में आने के बाद मैंने फिल्म द डर्टी पिक्चर में काम किया था।
विद्या को नहीं लगता कि शादी के बाद उन्हें सोचकर भूमिकाएं चुननी पड़ेंगी। उन्होंने कहा- मुझे नहीं लगता कि शादी का मेरे काम पर असर पड़ेगा। हम दोनों एक-दूसरे के काम का सम्मान करते हैं। मैं अपने पसंद की भूमिकाएं कर सकती हूं और वह अपने पसंद की फिल्म बना सकते हैं। बस एक-दूसरे के पेशे के लिए सम्मान होना चाहिए।
फिलहाल अपनी आने वाली फिल्म घनचक्कर के प्रचार और अगली फिल्म शादी के साइड इफेक्ट्स में व्यस्त विद्या कहती हैं कि कभी-कभी काम की अत्यधिक व्यस्तता के कारण वह और सिद्धार्थ ज्यादा समय साथ नहीं बिता पाते हैं।
उन्होंने कहा- शादी के इन छह महीनों में हम दोनों ही शहर से बाहर यात्राओं में व्यस्त रहे हैं और एक ही घर में रहने के बावजूद एक-दूसरे के साथ नहीं रह पाते हैं। विद्या ने कहा- मैं 83 साल की उम्र तक अभिनय करना पसंद करूंगी.. भगवान का शुक्र है कि अभिनय के क्षेत्र में मेरी बात बन गई। मैंने शुरू से ही खुद को एक अभिनेत्री के रूप में देखा था।

एंटी-रेप गजेट्सः लगेंगे 3800 किलोवाट के झटके

बलात्कार के घिनौने इरादे रखने वालों को सबक सिखाने के लिए देश के विभिन्न कॉलेजों और स्कूलों के छात्र नए-नए आविष्कार लेकर सामने आ रहे हैं। इन आविष्कारों में बलात्कार रोधी अंर्तवस्त्र और फैशनेबल सी बनियान भी शामिल हैं जिनमें बलात्कारियों को बिजली के झटके देने वाले उपकरण लगाए गए हैं।
बाहर से देखने में यह कपड़ा सामान्य तौर पर महिलाओं और किशोरियों में पहने जाने वाला एक नाइटगाउन लगता है लेकिन असल में इस परिधान में जीपीएस और सेंसर युक्त उपकरण लगे हैं। कोई भी खतरा महसूस होने पर यदि इसे पहनने वाली लड़की इसका बटन दबा दे तो यह परिधान बलात्कार की कोशिश करने वाले व्यक्ति को 3800 किलोवाट का तगड़ा झटका दे सकता है।
बलात्कार-रोधी अंर्तवस्त्र को बनाने वाली मनीषा मोहन कहती हैं, यह हर महिला का दर्द है। इसी से मुझे यह विचार आया। यह यौन शोषकों और मनचलों के खिलाफ नफरत है जिसके चलते यह अंर्तवस्त्र बनाना मुमकिन हो सका। इस अंर्तवस्त्र को मनीषा एसएचई यानि सोसाइटी हार्नेसिंग एक्विपमेंट का नाम देती हैं।हमलावर को बिजली का झटका देने के अलावा यह वस्त्र सेंसरों के सक्रिय हो जाने पर पुलिस को अलर्ट भी भेज सकता है।
एयरोनॉटिकल इंजीयिरिंग की छात्रा मनीषा ने बीते वर्ष दिसंबर में हुए सामूहिक बलात्कार के बाद चेन्नई के एसआरएम विश्वविद्यालय में इंस्ट्रूमेंटेशन और कंट्रोल इंजीनियरिंग की छात्राओं नीलाद्री बासु और रिंपी त्रिपाठी के साथ मिलकर इस उपकरण को तैयार किया।
इसी तरह निफ्ट में फैशन डिजाइनिंग के दो छात्रों ने भी बलात्कार-रोधी जैकेट बनाने के लिए वर्ष 2004 के सिद्धांत को दोबारा विकसित किया। इसके लिए पेटेंट का इंतजार किया जा रहा है और इसकी व्यवसायिक बिक्री 2014 तक शुरू हो जाने की संभावना है।
बलात्कार रोधी इस जैकेट को बनाने वाले दो छात्रों निशांत प्रिया और शहजाद अहमद का मार्गदर्शन करने वाली प्रोफेसर नूपुर आनंद कहती हैं, हमने पुलिसकर्मियों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली स्टेनगन के सिद्धांत जैसे सिद्धांत का इस्तेमाल किया, जो कि 110 वोल्ट तक का बिजली का झटका देकर सामने वाले को पस्त कर सकता है।
यह सिद्धांत व्यक्ति को क्षणिक झटका देकर उसे निष्कि्रय कर देने का है। दो इलेक्ट्रोडों के बीच कम वोल्टेज की पल्स आने से यह झटका लगता है। यह जैकेट दिखने में कुछ विशेष नहीं है लेकिन इसमें विशेष गुण जरूर हैं।
निशांत प्रिया कहती हैं, बड़ी संख्या में बलात्कार और यौन शोषण के मामले हमारे इस प्रोजेक्ट के लिए प्रेरणा बने। इन दोनों ने इन स्वरक्षा वाली जैकेटों को बनाने के लिए एक फैशन इंजीनियर की मदद ली।
इन जैकेटों में एक एक्रेलिक की बनी है जबकि दूसरी पारंपरिक डेनिम की। इन जैकेटों पर धातु की कढ़ाई है जो कि यौन हमला करने वाले को 100 वोल्ट तक का झटका दे सकती है। इसके लिए बस एक बटन दबाने भर की जरूरत होगी।

वेस्ट विशेज तो मर्डर-3:- मर्डर-3 से सुर्ख़ियों में छाई जैक्लिन फर्नादिश ने इसी सीरिज की तीसरी फिल्म मर्डर-3 की सफलता के लिए सुभकामनाये दी है । इस श्रीलंकाई सुंदरी का कहना है कि मेरी दिली इक्ष्छा है कि यह फिल्म बेहतर प्रदर्शन करे । मेरे लिए भट्ट कैम्प बहुत बड़ा ब्रांड है। मर्डर-3 में रणदीप हुडा, अदिति राव हैदरी और सारा लारेन हैं। फिल्म 15 फ़रवरी को रिलीज हो रही है।
"रेप क्राइम नहीं सरप्राइस सेक्स है: सनी लियोन"-इसे पब्लिसिटी स्टंट कहें या गलती? पोर्न स्टार सनी लियोन चर्चा में रहने के लिए ट्विटर का भरपूर उपयोग कर रही हैं। अभी कुछ दिन पहले ही इन्होंने बाथरूम में बोल्ड फोटोशूट कराया था। इस बार तो हद ही कर दी। पोर्न स्टार सनी लियोन अपने ट्वीट को लेकर विवादों में है। उन्होंने अपने एक ट्वीट में रेप को सरप्राइज सेक्स बताया और इस पर विवाद बढ़ने पर इसे डिलीट कर दिया। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी और उनके फॉलोअर्स इसे रीट्वीट कर चुके थे। बाद में सनी ने उन्हें धमकी दी कि वे अपने ट्वीट डिलीट कर दें वरना वह उन्हें ब्लॉक कर देगी। उनके ट्वीट ने एक बार फिर विवादों को हवा दे दी है। इतना ही नहीं सनी ने बाद में कहा कि यह ट्वीट उन्होंने किया ही नहीं और जिसने भी रेप के बारे में यह कमेंट किया वह इडियट है। उन्होंने लिखा, मैं उन सभी लोगों को ब्लॉक कर रही हूं जिन्होंने इसे रीट्वीट किया है। इसलिए या तो इसे तुरंत डिलीट करें या फिर मैं ब्लॉक करती हूं। सनी की फिल्म रागिनी एमएमएस-2 आने को तैयार है। इसके पहले उन्होंने पूजा भट्ट की फिल्म जिस्म-2 में काम किया था जो बॉक्स ऑफिस पर औंधे मुंह गिर गई थी।

टकराव का रास्ता छोड़ दे भाजपाः चिदम्बरम  


नई दिल्ली । श्रीनगर के लाल चैक पर तिरंगा पफहराने के भाजपा के कार्यक्रम को रद्द करने की अपील करते हुए केंद्रीय गृह मंत्राी पी चिदंबरम ने आज कहा कि इस राजनीतिक एजेंडे को आगे बढ़ाने का कोई औचित्य नहीं है क्योंकि इससे निश्चित तौर पर प्रदेश में कानून व्यवस्था और शांति पर असर पड़ेगा और भाजपा को राज्य सरकार के पफैसले का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि गणतंत्रा दिवस जश्न का दिन होता है और यह विभाजनकारी राजनीति का मौका नहीं होता। चिदंबरम ने भाजपा से टकराव का रास्ता छोड़कर दिल्ली लौटने की अपील की।
गृह मंत्राी ने कहा, ‘‘मैंने सोमवार को राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली और प्रदेश के मुख्यमंत्राी उमर अब्दुल्ला से बात की। मैंने जेटली से कहा कि उन्हें और उनके सहयोगियों को राज्य सरकार के पफैसले का उल्लंघन नहीं करना चाहिए।‘‘ चिदंबरम ने कहा कि भाजपा नेताओं को जम्मू हवाई अड्डे पर संवाददाता सम्मेलन की अनुमति दी गई थी, लेकिन उन्होंने इस पेशकश को ठुकरा दिया, ऐसी सूरत में राज्य सरकार को भाजपा नेताओं को वहां से हटाना पड़ा और उन्हें पंजाब के माधोपुर में एक रेस्ट हाउस में रखा गया। चिदंबरम ने कहा कि राज्य सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि वह श्रीनगर में किसी यात्रा की अनुमति नहीं देगी और न ही लाल चैक पर कोई सभा होने देगी। राज्य सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है कि वह भाजपा नेताओं को माधोपुर और लखनपुर को जोड़ने वाला पुल पार नहीं करने देगी और न ही प्रदेश में प्रवेश करने देगी। गृह मंत्राी ने कहा, ‘‘भाजपा नेताओं को राज्य सरकार के पफैसले का सम्मान करना चाहिए और यदि वे जानबूझकर शांति भंग करते हैं तो यह दुर्भाग्यपूर्ण होगा।‘‘

यातायात बत्तियों के संकेत

बच्चों, चैराहों पर तुमने लाल, हरी और पीली बत्तियां देखी होंगी। ये बत्तियां यातायात नियंत्राण के लिये होती हैं। ऐसा व्यस्त चैराहों पर ही होता है। लाल पीली और हरी बत्तियों के संकेत तो हम समझते हैं पर हमें यह मालूम नहीं कि इनकी शुरूआत कहां से हुई।
अमेरिका में रेलवे इंजीनियरों ने सबसे पहले बत्ती संकेतों का प्रयोग उन्नीसवीं सदी में किया था। रात के अंधेरे में रेल चालक संकेतों को समझ नहीं पाते थे। लाल रुकने के लिये प्रयोग किया गया परंतु चलने के लिये तैयार होना और चल पड़ने के लिए कौन सा रंग प्रयोग किया जाए, यह समझ नहीं आ रहा था।
सन् 1830 में सबसे पहले चलने के लिये तैयार हो जाओ के लिये हरा रंग और चमकीला हल्का पीला रंग चलो संकेत के रूप में इस्तेमाल किया गया। यह प्रयोग भी कारगर साबित नहंीं हुआ।
 कई बार रंग बदले गये प्रयोग दर प्रयोग के बाद वर्तमान रंगों का निर्धारण हुआ जिसमें पीला रंग हमारे लिये इस बात का इशारा होता है कि हम चलने को तैयार हो जाएं और हरा रंग यह संकेत देता है कि हम अब चल पडे़।
लाल रंग रुक जाने का संकेत देता है।अमेरिका के क्लीवलैंड ;ओहियो प्रांतद्ध नामक नगर में विश्व में पहली बार 1914 में बिजली का प्रयोग बत्तियों में किया गया। इससे पहले यातायात संकेतों के लिये लालटेनों का प्रयोग होता था। क्लीवलैंड में 1914 में जब यातायात संकेतों के लिये बिजली की बत्तियों की शुरूआत की गयी तो पीला रंग इसमें शामिल नहीं था। 

बच्चों की देखभाल-महत्त्वपूर्ण टिप्स

बच्चों के जन्म से पहले ही पुराने कपड़ों को धोकर, प्रेस करके रखें।
बच्चों को कपडे़ बहुत लगते हैं। कपडे़ सूती व नरम हों।
बच्चे को नहलाने, खिलाने का पूरा ध्यान रखें।
बच्चे को नहलाते समय टब का उपयोग करें। पैरों पर रखकर नहलाएं। साबुन न लगाएं। नहलाते समय पानी आंख, मुंह या कान में न जाए, कान व मुंह गीले कपडे़ से सापफ करें।
दूध की बोतल का इस्तेमाल करने से पहले गर्म पानी में उबालें।
रात को सोते समय सूखे कपडे़, चादर, नेपकिन्स, टार्च व अन्य जरूरी सामान सिरहाने रखें। तीन चार महीने पश्चात् बच्चे को बाहर ले जाएं। पर्याप्त कपड़ों का होना जरूरी है।
बच्चे को देर रात तक न घुमाएं, न ही बाहर के पेय पदार्थ पिलाएं। यदि आप चार पांच घंटे के लिए बाहर जाएं और बच्चे के नेपकिन बदलने की सुविधा न हो तो पतले नेपकिन की छह तह बनाकर सादा जांघिया पहनाएं, पिफर प्लास्टिक का जांघिया व दो-चार पोलीथीन भी रख रख लें। वैसे तो अब हग्गीस मार्केट में उपलब्ध् हैं। बाहर जाते समय उनका प्रयोग करें।
बच्चे को शुरू से ही नीचे पेशाब कराने की आदत डालें व रात को पास टब या तसले में पेशाब कराएं। कभी बिस्तर गीला नहीं होगा।
बहुत ठंडे या गर्म पदार्थ बच्चों को नुक्सान पहुंचा सकते हैं। बच्चों को बाजारी चीजों की आदत न डालें। ताजे पफल व पौष्टिक पदार्थ खिलाएं। बच्चों को जबरदस्ती न खिलाएं, भूख लगेगी, स्वयं मांगेंगे। दूध, दही से बनी चीजें खिलाएं।
बच्चा शुरू से कच्ची मिट्टी की तरह होता है। उसे बचपन से ही सही शिक्षा व मार्गदर्शन दें व सही आदतें डालें ताकि वह उनके अनुरूप ढलें। बड़ा होने पर बच्चा पक्की मिट्टी की भांति हो जाता है जो जल्दी संभल नहीं पाता।

आखिर कहां है दिल्ली पुलिस
25 दुकानों में लाखों की चोरी

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में चोरी की वारदातों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। चोरों के भीतर पुलिस का भय समाप्त हो चुका है। ऐसे में दिल्ली पुलिस की परेशानियां बढ़ रही है। आम जनता एक ही सवाल पूछ रही है आखिर दिल्ली पुलिस कहां है, जो इन वारदातों पर अंकुश नहीं लग पा रहा है।
चांदनी चैक में भी पिछले दिनों एक साथ करीब दो दर्जन दुकानों में चोरी हो गई। इस घटना के बाद स्थानीय व्यापारियों ने थाने का घेराव किया। गुस्साए दुकानदारों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया है। ज्ञात हो कि दो दिन पहले ही गांधी नगर मार्केट में भी करीब दो दर्जन से अधिक दुकानों में चोरी हो गई थी। जानकारी के अनुसार के चांदनी चैक के किनारी बाजार की दो दर्जन से अधिक दुकानों को अपना निशाना बनाया। दूसरे दिन करीब दस बजे जब दुकानदारों ने अपनी दुकान खोली तो उसमें माल गायब देखकर सबके होश उड़ गए। जिन दुकानों में चोरी हुई वह सभी दुकानें कपड़ों की कढ़ाई में काम आने वाले सामान जरी, मोती आदि बेचने की दुकानें हैं जिनमें लाखों का महंगा माल रखा था।





फोटो गैलरी                       More..
              

     

Video                                More..

https://www.youtube.com/watch?v=jzRWPYTTyac